Tuesday, July 12, 2011

एक बार फिर से अजनबी हो जाए चलो


हर बार नए ढंग  से मिलने के लिए
एक बार फिर से अजनबी हो जाए चलो

तुम मुझे अपने दिल के कोने में हर बार जगह देना
और मैं तुम्हारी यादों में जुदाई का दौर सह लूंगी
सारी उम्मीदों को ताक पर रखकर
बस मोहब्बत रखे दरमियाँ और फ़ना हो जाए चलो

एक बार फिर से अजनबी हो जाए चलो

तुम हर बार मुझे नए अंदाज़ में देखना
जैसे पहली बार सफ़र में मिले हो हम दोनों
में तुम्हारी हर नजर का नयापन महसूस करुँगी
सफ़र की थकान मिटाने के लिए
गैर बन जाए और कुछ दिन जुदा हो जाए चलो

एक बार फिर से अजनबी हो जाए चलो

एक बार फिर चलेंगे अकेले जिंदगी की राहों पर
तुम कहीं मिल जाओ तो बस अजनबी मुस्कान दे देना
 मै ठीक वेसे ही मुस्कुरा दूंगी जेसे मुस्कुराई थी पहली मुलाकात पर
इसी तरह अपनी ठहरी हुई जिंदगी में,प्रवाह ले आए चलो

एक बार फिर से अजनबी हो जाए चलो

भूल जाए एक बार की हम हमसफ़र है
न हक जताए न हकीकत का सामना करें
जितनी मंजिले साथ चले वो भुला दे कुछ दिन
सब खताएं माफ़ करके बेखता हो जाए चलो

एक बार फिर से अजनबी हो जाए चलो........

11 comments:

Murari Pareek said...

aah se waah !!! kash ki aisa ho jaaye ek baar phir se ajanbai ban jae!!

Kunnu said...

Meaningful. Liked. :-)

kanupriya said...

thanks to murali and kunnu

महेश "माही" said...

बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति...
आभार

Sunil Deepak said...

इस कविता से हमें पुराना गाना याद आ गया, "चलो इक बार फ़िर से अजनबी बन जायें हम दोनो". किसी को अजनबी बन कर मिलने में लम्बे समय तक साथ रहने की थकान की कड़वाहट छुपी होती है या बोरियत, तो क्या नया कहने से ही हम अजनबी बन पाते हैं?

kanupriya said...

सही कहा आपने सुनील जी चलो इक बार फिर से अजनबी बन जाए हम दोनों बड़ा सुरीला गाना है वो.
सही है अजनबी बन जाने से पुरानी कडवाहटें मिटाना आसान नहीं होता पर उम्मीद पर दुनिया टिकी है शायद ये अजनबीपन जिंदगी में अपनेपन को बढ़ा दे

Saru Singhal said...

Beautiful and as everyone said, reminded me of, 'Chalo ek baar fir se ajnaaabi so jaye hum dono'
Great Creation...

kanu..... said...

saru ji ye galti se hua hai ya aapka trick aapne ajnabi ko sula diya.very nice meaning change but isse poore thought ko naya angle mil gaya......

रजनीश तिवारी said...

बहुत सुंदर रचना .. उस मोड़ से शुरू करें फिर से ये ज़िन्दगी हर शय जहाँ हसीन थी, हम तुम थे अजनबी ...

kanu..... said...

dhanyawad rajneesh ji

Anonymous said...

I need to say, as very much as I enjoyed reading what you had to express, I couldnt support but lose interest following a while. Its as should you had a good grasp on the subject matter matter, but you forgot to include your readers. Perhaps you should think about this from more than one angle. Or perhaps you shouldnt generalise so much. Its far better if you take into consideration what others may have to say rather than just going for the gut reaction for the theme. Consider adjusting your own thought procedure and giving other people who may study this the benefit of the doubt.