Monday, August 22, 2011

झीनी झीनी उड़े रे गुलाल

झीनी झीनी उड़े रे गुलाल सवारियां के मंदिर में
झीनी झीनी उड़े रे गुलाल सवारियां के मंदिर में
मुरली वारो लागे रे प्यारो ,
 नाचे घणा नर नार सांवरिया  के मंदिर में
झीनी झीनी उड़े रे गुलाल  सांवरिया

आप सभी ने जन्माष्टमी की घनी घनी बधाइयाँ .लो आज फेर आई गई जन्माष्टमी  आज इज का दन बंसी बजैया, मनमोहन कान्हा ने जनम लियो थो,  म्हणे नानकडो (कान्हा का बाल रूप ) कान्हो   घनो भावे है .छोटी सी थी जदी ती छोटो सो कान्हो म्हारे में मन में रमी गयो .छोटा छोटा  हाथ ती माखन चुरातो ,बंसी बजातों कान्हो म्हारे मन ने घनो भलो लागे .कान्हा की थोड़ी सी लीला, ने भजन ,  वीडिओ आप लोगा के लिए इकठ्ठा करिया है .आसा करू हू की हगरा ने पसंद आवेगा...

मीठे रस से भरोई राधा रानी लागे ,राधा रानी लागे
माने कारो कारो जमुना जी रो पानी लागे

ना भावे माने माखन मिश्री ,अब ना कोई मिठाई
म्हारी जिभारियां ने भावे अब तो  राधा नाम मलाई
वृषभानु की ललिता ,गुन धानी लागे -गुण धानी लागे
रे म्हणे कारो कारो जमुना जी रो पानी लागे

राधा राधा नाम रटते ,हे जो नार आठों धाम
भवसागर से पार लगे राधा नाम राधा नाम
राधा नाम में सफल जिंदगानी लागे
म्हणे कारो कारो जमुना जी रो पानी लागे




शुरुआत कृष्ण जनम तीज करा  तो घनो ही अच्छो  रेगा
नन्द के आनन्द भयो जय कन्हैया लाल की


कृष्ण की बाल लीला को वर्णन करतो यो सुन्दर भजन
मैया मेरी मैं नहीं माखन खायो



यशोमती मैया से पूछे नंदलाला राधा क्यों गोरी मैं क्यों काला


नटवर नागर नंदा भजो रे मन गोविदा

श्याम पिया मोरी रंग दे चुनरिया
बिना रंगाए मैं तो घर नहीं जाउंगी
 बीत जाए चाहे सारी उमरिया
श्याम पिया मोरी रंग दे चुनरिया


यो भजन म्हारा मन ने घनो भावे है
ओ  कान्हा अब तो मुरली की मधुर सुना दो तान


कान्हा को यो गानों घणा लोगा ने पसंद आवे हैं



यो एक और भजन जो घना लोग पसंद करे है
यशोदा का नन्दलाल ब्रिज का उजाला है


मनिहारी का भेष बनाया  श्याम चूड़ी बेचने आया

श्याम  तोरी बंसी पुकारे राधा नाम
लोग करे मीरा को यूँही बदनाम

गोविन्द बोलो हरी गोपाल बोलो

भक्ति की भावना ती भरियो यो भजन घना लोग आरती के रूप में भी गावे है
श्री कृष्ण गोविन्द हरे मुरारी हे नाथ नारायण वासुदेव

ने आज का समय में सब्ती ज्यादा सही लगवा वारो भजन  है
बड़ी देर भाई नंदलाला
तेरी राह ताके ब्रिजबाला

आप सभी ने एक बार फेर ती जन्माष्टमी की घनी घनी शुभकामना
जय श्री कृष्ण




10 comments:

रजनीश तिवारी said...

krishna janmashtami ki shubhkamnayen

kanu..... said...

aapko bhi bahut bahut shubhkaamnaein

Sunil Padiyar said...

Hey there...

You are tagged here,

http://sunilpadiyar.blogspot.com/2011/08/my-first-blogger-award.html

Cheers! :)

induravisinghj said...

Happy janmashtami...

Kailash C Sharma said...

जन्माष्टमी की हार्दिक बधाई और शुभकामनाएं !

चन्द्र भूषण मिश्र ‘ग़ाफ़िल’ said...

बहुत सुन्दर...बधाई

प्रवीण पाण्डेय said...

आपको भी बहुत बहुत शुभकामनायें।

Anonymous said...

This is an excellent post.

रविकर फैजाबादी said...

उत्कृष्ट प्रस्तुति शुक्रवार के चर्चा मंच पर ।।

यशवन्त माथुर (Yashwant Mathur) said...

बेहतरीन



सादर