Wednesday, April 23, 2014

बस कह ही नहीं पाता हूँ मुझको तुमसे कितना प्यार है

एक ऐसी कविता जिसे कोई पुरूष लिखता तो बेहतर लिखता ज्यादा शिद्दत से लिखता...पर मैंने लिखी...लोग कहते हैं नारी का मन पढ़ा नहीं जा सकता..पर सच ये है कि पुरूष का मन ज्यादा गहरा है...उसमें भी प्रेम हैं संवेदनाए है...पुरूषो की ओर से ये एक कविता हर नारी के लिए....

क्या कहूँ ओ प्रियतमा 
तुम क्या मेरे जीवन में हो
शब्द ही नहीं मिलते उसे
जो प्रेम के बंधन में हो.

तुम अहसास हो हर साँस का
जीने का तुम आधार हो
आस की डोरी हो तुम
मेरे लिए संसार हो.

कह नहीं पाता मैं तुमसे
प्रेम के वो शब्द भी
उलझा हुआ भवसागर में
रहता हूँ में स्तब्ध भी.

जानता हूँ मेरी अनदेखी से
तुमको
रात दिन होती घृणा
पर सच कहूँ सबके लिए ही
ये कर्म का रस्ता चुना.
.
हाँ पुरूषो ने जन्मों जनम तक
नारियों के मन छले
पर कुछ दियों की उद्धन्डता का
दंड़ सबको क्यू मिले.
.
तुमने आँखों के सामने
देखाबच्चों को बढ़ते हुए
रोटियों के फेर में मैंने
वो सारे पल खो दिए

तुम माँ हो बहन होपत्नी हो
 प्रेम की छावं हो
मेरे लिए तुम दुपहरी में
शांति का गाँव हो

तुम घर में रही तो 
तुमनेघर को प्रेम का बल दिया
बाहर गई तो हर हाल में
मुझको अपना संबल दिया

तुम्हारे आँसुओं की हर धार
मेरे हृदय पर वार है
बस कह ही नहीं पाता हूँ
मुझको तुमसे कितना प्यार है

मैं वक़्त ना दे पाऊं
इस बात का ग़म है हमें
पर प्रेम है इस बात का
वचन देता हूँ तुम्हें

तुमने मेरे जीवन को सींचा
प्यार की फुहार से
मैं ज़रा पगला हूँ
कह पाता नहीं हूँ प्यार से

जब कभी लड़ता हूँ
सारी रात न सोता हूँ मैं
तुम मुँह ढांककर रोती हो
और मन ही मन रोता हूँ मैं
 
तुम्हारी तरह मेरा दर्द
चेहरे पर दिखता नहीं
पर ना समझना ये कि
मेरा दिल कभी दुखता नहीं

मनाना आता नहीं पर
दिल से मानता हूँ मैं तुम्हें
गर कभी तकलीफ में हो
साथ पाओगी मुझे....

कनुप्रिया गुप्ता....आपका एक कमेन्ट मुझे बेहतर लिखने की प्रेरणा देगा और भूल सुधार का अवसर भी

9 comments:

दिगम्बर नासवा said...

बहुत खूब ... गहरे प्रेम के एहसास शब्दों में उतारत दिए ...

दिलबागसिंह विर्क said...

आपकी इस प्रस्तुति का लिंक 24-04-2014 को चर्चा मंच पर दिया गया है
आभार

Anju (Anu) Chaudhary said...

खूबसूरत प्रस्तुति

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक' said...

बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
--
आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा आज बृहस्पतिवार (24-04-2014) को IPL के बुखार के बीच एक चर्चा { चर्चा - 1592 } में अद्यतन लिंक पर भी है!
--
सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
--
हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
सादर...!
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

संजय भास्‍कर said...

बहुत रोचक और सुन्दर अंदाज में लिखी गई रचना .....आभार

Vaanbhatt said...

सुन्दर प्रस्तुति...

रश्मि शर्मा said...

Sundar prastuti ..

Smart Indian said...

बहुत बढ़िया!

केवल राम said...

कृपया आप अपने इस महत्वपूर्ण हिन्दी ब्लॉग को ब्लॉग सेतु ब्लॉग एग्रीगेटर से जोड़ें ताकि आपकी रचनात्मकता से अधिक से अधिक लोग महत्वपूर्ण सकें .... !!! यह रहा लिंक .... !!!

http://www.blogsetu.com/