Monday, March 11, 2013

लव थेरेपी बेस्ट थेरेपी

love therapy best therapy 
प्रेम लिखने पढने समझने के सबके अलग ढंग है ... पंजाब की हाथ की बनी  फुलकारी का काम देखा है कभी ? या मेहंदी के कोन से बनी मेहंदी की डिजाइन  तो देखी होगी ? सोचते हो इसमें नया क्या है अलग क्या है ? अलग है नया भी है ...अलग है हाथ का जादू , अलग अलग हाथ से बनी एक ही कलाकृति कभी एक सी नहीं दिखती और अलग अलग लोग उसे अलग ढंग से देखेंगे बस यही एक फर्क है इश्क के मामले में भी ...सब अलग ढंग से समझते है ,अपने ढंग से मायने निकालते है और बदलते हैं ....बदलते हैं इसलिए लिखा क्यूंकि जो लोग अपनी जवानी के दिनों में प्रेम के महासमर्थक बने फिरते रहे हैं वही एक उम्र के बाद प्रेम को घोर निंदा का सबजेक्ट मान बैठते हैं ....

सबका अलग ढंग ,अलग विचार। और हो क्यों ना  प्रेम भी तो अलग है और जिंदगी के हर पहलु पर प्रभाव भी डालता है, हर शरीर पर हर मन पर सब पर यूनीक प्रभाव ...

प्यार  का सम्बन्ध सिर्फ दिल से नहीं होता ये बात तो सच   हैं पर आपके मोटापे और भूख से भी क्या इसका सम्बन्ध हो सकता है ? हां ! ये भी सच है अचानक से विश्वास नहीं होता इस बात पर ...लेकिन ये सच है जो लोग प्रेम के लिए तरसे रहते है वो या तो बहुत तेजी से मोटे हो जाते है या इसके विपरीत  लाख चाहने के बावजूद सामान्य या अच्छे स्वास्थ्य के मालिक नहीं बन पाते और बहुत दुबले पतले से रह जाते हैं  । 

पहली परिस्थिति देखे तो जब इंसान प्रेम के लिए तरसता है तो उसे अन्दर से एक खालीपन का अहसास होता है उसे लगता है कोई उसे प्रेम नहीं करता कोई उसके बुरे समय में ,बुरे स्वास्थ्य में उसका सहारा नहीं बनेगा और इसी उधेड़बुन में ऐसे  लोग अपनी क्षमता से ज्यादा भोजन करने लगते हैं उन्हें पता भी नहीं चलता और वो अपने आतंरिक खालीपन की पूर्ती प्रेम की जगह भोजन से करने लगते हैं। आपने कभी कभी देखा होगा घर से दूर अकेले रहने वाले कुछ बच्चे अचानक से मोटे होने लगते हैं और हम सोचते हैं उन्हें उस शहर का हवा पानी रास आ गया , कभी कभी ये बात सही भी होती है की किसी स्थान विशेष की जलवायु 
मानव शरीर पर अनुकूल असर डालती है  पर हर बार एसा नहीं होता ,  ये अचानक आया मोटापा कभी कभी  प्रेम की ,अपनेपन की कमी के कारण होता है। 

यकीन मानिये अगर आप प्रेम से भरे हैं तो आपको बहुत ज्यादा भूख नहीं लगेगी क्यूंकि आप संतुष्ट है आपको डर नहीं है इस बात का की आपकी जरुरत के समय कोई आपके साथ नहीं होगा . अगर आपको किसी से अथाह प्रेम है या आपके पास कोई है या कई लोग हैं जो आपको बहुत प्रेम करते हैं तो आप आत्मसंतुष्टि से तरबतर होंगे और ऐसी  स्तिथि में आप भूख के, मोटापे के गुलाम नहीं बनते .....

अब दूसरी परिस्तिथि देखते हैं जब प्रेम की कमी इंसान की भूख को मार देती है और जो भोजन वो करता है वो लाख चाहने पर भी उसके शरीर को नहीं लगता। आपने देखा होगा की कभी कभी कोई बिमारी न होने ,घर में खान पान की अच्छी व्यवस्था होने के बावजूद भी कुछ लोग बहुत दुबले पतले होते हैं और लोगो के तानो का शिकार होते रहते हैं . सच मानिये कई बार इस तरह के स्वास्थ्य के पीछे प्रेम और अपनेपन की कमी एक बहुत बड़ा कारण होती है। जब किसी इंसान के आसपास ऐसे लोग मौजूद हो जो उसकी हर बात में मीन मेख निकाले ,उसके रंग रूप योग्यता हर बात पर टिप्पणी करे  उसे बार बार उसकी कमियों का अहसास दिलाए  या उसे बदल जाने के लिए मानसिक रूप से दबाव बनाए तो ऐसी  परिस्थति में इंसान प्रेम के लिए बेतरह तरस जाता है और उसे धीरे धीरे स्वयं से भी प्रेम नहीं रहता . वो खुद को संसार से और अपने आस पास के लोगो से काटने लगता है और प्रेम की ये कमी उसके अन्दर की भूख को मार देती है। 
वो तरह तरह के व्यंजन खाए ,प्रोटीन सप्लीमेंट  ले पर क्यूंकि उसका मन दुःख से भरा होता है भोजन उसके शरीर को नहीं लगता , वो चाव से भोजन नहीं कर पाता क्यूंकि मन तो प्रेम का भूखा है और कोई भोजन लगता ही नहीं .

अगर आपके पास प्रेम है तो वो आपके अन्दर की रिक्तता को पाट देता है जिसके कारण ना तो आप अत्यधिक मोटे होंगे और न ही दुःख और अवसाद को इतनी जगह मिलेगी की वो रिक्तता को इतना भर दे की आप भोजन में  रूचि ही न ले।

ये बातें सुनने में अजीब लगती है पर सच है की सिर्फ फैट, विटामिन  या प्रोटीन की सही मात्रा ही शरीर के लिए जरुरी नहीं प्रेम की सही आपूर्ति भी शरीर को ठीक ठाक बनाए रखने के लिए उतनी ही आवश्यक  है। विश्वास मानिये अगर आपका कोई अपना अचानक से मोटा हो रहा है या लाख चाहने के बाद भी उसके शरीर को भोजन नहीं लगता तो एक बार लव थेरेपी का प्रयोग करके अवश्य देखिए। उसे समझने की कोशिश करिए दवाइयों का डोज़ अपनी जगह है थोडा सा अपनेपन का अहसास दिलाइये , ये अहसास दिलाइये की वो आपको प्रिय है और आपके जीवन में उसका स्थान बहुत महत्वपूर्ण है ...यकीन माहिये असर होगा ...क्यूंकि प्रेम से बेहतर कोई उपाय नहीं ................

आपका एक कमेन्ट मुझे बेहतर लिखने की प्रेरणा देगा और भूल सुधार का अवसर भी

7 comments:

रविकर said...

आपकी उत्कृष्ट प्रस्तुति मंगलवारीय चर्चा मंच पर ।।

Yashwant Mathur said...


दिनांक 13/03/2013 को आपकी यह पोस्ट http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर लिंक की जा रही हैं.आपकी प्रतिक्रिया का स्वागत है .
धन्यवाद!

Kalipad "Prasad" said...

सुन्दर प्रस्तुति ,आप भी मेरे ब्लोग्स का अनुशरण करें ,ख़ुशी होगी
latest postअहम् का गुलाम (भाग तीन )
latest postमहाशिव रात्रि

प्रवीण पाण्डेय said...

किसी के द्वारा चाहे जाने की चाह जन्म से ही होती है, प्रेम औषधि है।

दिगम्बर नासवा said...

कुछ हद तक ठीक लगता है ... प्यार का इतना असर तो जरूर ही होता है ...

MANU PRAKASH TYAGI said...

सही है

शिवनाथ कुमार said...

सच्चे प्रेम की सुन्दर व्याख्या
सुन्दर लेख