Thursday, December 6, 2018

मंटो : पूरे हीरो की अधूरी कहानी Manto movie review

फ़िल्म : मंटो
डायरेक्टर : नंदिता दास
राइटर : नंदिता दास
स्टार कास्ट : नवाज़ुद्दीन सिद्दीकी , रसिका दुग्गल, ताहिर राज भसीन, राजश्री देशपांडे
सिनेमेटोग्राफी : कार्तिक विजय
सेट डिज़ाइनिंग : रीता घोष
आर्ट डायरेक्शन : राजेन्द्र चौधरी
स्टिल फोटोग्राफी : आदित्य वर्मा

मंटो देखने से पहले जिन लोगो ने मंटो को नही पढ़ा है उन्हें मंटो को पढ़ लेना चाहिए और जिन लोगो ने  पढ़ा है उन्हें एक बार और थोड़ा समझने की कोशिश करनी चाहिए और अपने मन मे फ़िल्म को लेकर खड़ी हुई बड़ी बड़ी उम्मीदों को थोड़ा सा कम कर लेना चाहिए क्योंकि फ़िल्म अच्छी है पर उम्मीद के हिसाब से बेहतरीन नही है...
इसे बॉयोपिक होने के कारण थोड़ी छूट दी जा सकती है पर इतनी छूट भी नहीं दी जा सकती कि उम्मीद पूरी न होने पर बायोपिक कहकर पल्ला झाड़ लिया जाए...
रिव्यू की शुरुवात नेगेटिव नरेटिव से करना उतना ज़रूरी नहीं था पर रिव्यू पढ़ने के बाद आपको शायद मेरी बात से इत्तेफाक हो।

डायरेक्शन : नंदिता दास को डायरेक्शन के पूरे नंबर दिए जाने चाहिए क्योंकि जो जितना दिखाया गया है उसका हर हिस्सा बेहतरीन है,उनने कलाकारों से बेहतरीन काम करवाया है,हर सीन में जान है हाँ एक जगह थोड़ी सी चूक हुई है कि फ़िल्म कई जगह  थोड़ी ज्यादा स्लो हो जाती है...फ़िल्म के शुरुआती कुछ सीन कन्फ्यूजिंग है...जो लोग मंटो को जानते हैं पढ़ते रहे हैं उनने समकालीन लेखकों को भी पढ़ा होगा पर जिनने मंटो को ज्यादा नहीं पढ़ा उन्हें एक साथ इतने लेखक किरदारों से मिलवाना टाला जा सकता था...बाकी डायरेक्शन अच्छा है कई जगह बहुत अच्छा भी।

कांसेप्ट  और कहानी:
किसी फिल्म रिव्यु में कॉन्सेप्ट की बात होनी ही चाहिए जब वो फ़िल्म की कमज़ोर कड़ी में से एक हो...आप बायोपिक केटेगरी में फ़िल्म बना रहे है पर उसे रिलीज़ तो कमर्शियल सिनेमा की ही तरह कर रहे हैं तो सिर्फ 4 साल की कहानी लेकर फ़िल्म क्यो बनाई जाए? ये सही है कि मंटो को एक फ़िल्म में बांधना मुश्किल है पर सिर्फ चार साल ही क्यों? इसलिए कि वो चार साल भारत पाकिस्तान के बटवारे का समय था और मंटो के ज़हन पर उनकी कहानियों पर उस दौर का गहरा असर था...? पर आप अगर मंटो फ़िल्म को अंतरराष्ट्रीय फ़िल्म फ़ेस्टिवल में दिखा रहे हैं तो कांसेप्ट पर और काम किया जाना बनता ही था...मंटो को सिर्फ उन चार सालों में बांध देना खलता है...खलने से ज़्यादा ये अधूरापन लगता है....जिन लोगो ने मंटो को पढ़ा है उन्हें भी लगेगा और जिनने नही पढ़ा उन्हें तो लगेगा ही...
फ़िल्म की कहानी दूसरी कमज़ोर कड़ी है...कहानी जैसा कि कॉन्सेप्ट अधूरा है उसी तरह कहानी भी अधूरी सी लगती है मंटो उन चार सालों से ज्यादा, बहुत ज्यादा है  ,दूसरी बात मंटो ने बस बंटवारे के आस पास कहानियां नही लिखी,उनकी कहकनियों में वैश्याओं की कहानियों का,पीड़ित औरतों की कहानियों का भी बड़ा हिस्सा है जो फ़िल्म में एक कहानी दिखाकर और एक ,दो डायलॉग बुलवाकर खत्म कर दिया गया है जो कहानी दिखाई गई वो भी उन लोगो को कतई क्लिअर नही होगी जिनने मंटो को पढ़ा नहीं...
टोबा टेक सिंग और ठंडा गोश्त मंटो की प्रतिनिधि कहानियां हैं और इन्हें बहुत बेहतरीन ढंग से फ़िल्म में गूँथा गया है पर पाकिस्तान में मुकदमे वाला हिस्सा काफी लंबा खींचा गया है... काली सलवार,खोल दो,बारिश ,बू,सड़क के किनारे,खुदकुशी, जैसी कई कहानियां जिक्र से महरूम रह गई इसे राइटर की मजबूरी समझ जा सकता है कि एक फ़िल्म में सब कैसे डाला जा सकता है पर एक राइटर जिसपर फ़िल्म बनी है उसकी जिंदगी के कुछ और पहलू उजागर किए जाने चाहिए थे,ये फ़िल्म मंटो पर बननी चाहिए थी पर ये उनकी कहानियों पर बनी...मंटो अपनी कहानियों से अलग भी है...
आपने मंटो बनाई है ,मंटो 1 नहीं जिसके आगे आप पार्ट 2,3 भी लाने वाले हैं। 1 मंटो बनाकर, आप अधूरापन कैसे रख सकते हैं कहानी में...थोड़ी और रिसर्च, थोड़ा और बढ़ा हुआ दायरा, थोड़ी और कसी हुई कहानी ,और स्क्रिप्ट इस फ़िल्म की मांग थी...जो पूरी नही हुई है...

अभिनय :
अभिनय के मामले में नवाज़ुद्दीन सिद्दीकी ने हमेशा की तरह कमाल किया है...उन्हें मंटो मान लेने को दिल चाहता है।हर भाव,किरदार का हर रंग,चाल,ढाल,सब कुछ ऐसा लगता है जैसे कभी मंटो को न देखकर भी हम मंटो को ही देख रहे हैं।लत की हद्द तक शराब में डूब जाना,विद्रोह की हद तक विद्रोह करना,मोहब्बत की हद तक बम्बई (आज की मुम्बई) के इश्क़ में डूब जाना सब मंटो को सामने ला खड़ा करता है।
रसिका दुग्गल ने मंटो की शरीके हयात का किरदार बखूबी निभाया है...मोहब्बत,चिढ़,साथ,और अपने ही शौहर की कभी प्रशंसक और कभी मजबूर बीवी और बच्चो की माँ होने की कशमकश उनके किरदार में उभरकर आई है...
ताहिर राज भसीन ने श्याम के किरदार को बड़े अच्छे से निभाया है और राजश्री देशपांडे(इस्मत चुगतई) ने भी अच्छा अभिनय किया है, भानु उदय (अशोक कुमार का किरदार) इला अरुण (जद्दन बाई) भी आकर्षित करते है...नरगिस का रोल करने वाली अदाकारा भी और बेहतर कर सकती थी...पर उन्हें वो रोल दिया ही नहीं गया जो मंटो की कहानी में नरगिस का होना चाहिए था(खैर उसे नज़रंदाज़ किया जा सकता है)

सिनेमेटोग्राफी और सेट : बेहतरीन सिनेमेटोग्राफी,स्टिल फोटोग्राफी और उस दौर को सामने ला खड़े करने वाले सेट...कई जगह आपको ऐसा लगेगा कि आप वही है,उसी दौर में,उस दौर के स्टेशन पर,उस दौर की लोकल ट्रेन में,उस समय के लाहौर में,उन घरों में ,उन गलियों में,उन दवाओं के पास बैठे हुए,उस समय की किसी फिल्मी पार्टी में या, उस समय के शराबखाने,या मैग्ज़ीन के ऑफिस में...
आर्ट डाइडेक्टर का काम भी बहुत अच्छा है और रीता घोष ने जीवंत सेट बनाए है।कपड़ो से लेकर मेकअप तक सब आपको उस दौर में ले जाता है...जो दौर हमने देखा नहीं वो नज़र के सामने हो जैसे...

 फ़िल्म क्यों देखे :ऐसी फिल्में देखी जानी चाहिए क्योंकि ये उस लेखक की कहानी है जो अपने हर लिखे पर तोहमतें उठाता रहा, मुकदमे झेलता रहा फिर भी उसने वो लिखा जो आईना था समाज का...अच्छे लेखकों को जान लेना अच्छी बात है ..और कुछ नही तो जिनने मंटो को पढ़ा नही वो ये फ़िल्म देखकर पढ़ने लगे शायद और अपने लिए मंटो की उस दुनिया के दरवाज़े खोल ले जिससे अछूता रहना कोई बड़ी अच्छी बात नहीं
फ़िल्म इसके सेट,उस दौर की बंटवारे कि दास्तान,उसके आम लोगो पर और एक ऐसे लेखक पर पड़े प्रभाव के लिए भी देख सकते हैं जो लाहौर तो गया पर दिल बम्बई में छोड़ गया...और फिर और अपने दिल की पुकार पर दो देशों में बंट गया यहाँ का रह न सका ,वह का हो न सका।

फ़िल्म क्यों न देखें :
ये बायोपिक है और अधूरी है इसलिए पहले मंटो को थोड़ा पढ़े और फिर देखने जाए।दूसरी बात मंटो सुनकर जो लोग ये उम्मीद लगा बैठे हो कि फ़िल्म में ज्यादा खुलापन होगा (मंटो की कहानियों को कुछ लोग इसलिए बुरा भी मानते रहे है इसी खुलेपन की वजह से) वो न जाए ..
मंटो को बेहद चाहने वाले बड़ी बड़ी उम्मीदें लेकर न जाए...4 साल की अधूरी कहानी में आपको पूरे मंटो नही मिलेंगे पर अफसोस जताने जैसा भी कुछ नहीं...

एक लेखक पर फ़िल्म बनी है  देख लेने में बुराई नहीं... पर मंटो को पूरा नही पाएंगे...अच्छा अभिनय देखना है देख लीजिए बाकी कहानी में कमजोरी,कॉन्सेप्ट में कमजोरी और कहीं कहीं बोरियत आप ख़ुद महसूस करेंगे...
हाँ अपने प्यारे लेखक को किरदार के रूप में देखना अच्छा लगेगा...
मंटो पर बनी इस फ़िल्म को 3 स्टार पर तसल्ली रख लेनी होगी...ये प्रेम कहानी नहीं, ना ही कोई परिकथा जो सिर्फ अच्छे सेट या डायरेक्शन से नैया पार हो...स्क्रिप्ट में और कसावट ज़रूरी थी।

#kanupriyakahin #mantomoviereview #manto #nanditadas #mantomovie
आपका एक कमेन्ट मुझे बेहतर लिखने की प्रेरणा देगा और भूल सुधार का अवसर भी

1 comment:

रूपचन्द्र शास्त्री मयंक said...

आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल रविवार (09-12-2018) को "कल हो जाता आज पुराना" (चर्चा अंक-3180) पर भी होगी।
--
सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
--
चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
सादर...!
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'