Monday, November 13, 2017

वो भी खुश नहीं रहते

देकर के ज़ख्म ख़ुद भी तो मरहम नहीं लेते
जो बीच राह छोड़ते हैं वो भी खुश नहीं रहते

इश्क़ की दीवारों में सेंध मारकर
सोने के महलों में भी बैचेन होते हैं
खून के आंसू रुलाकर वो
दर्द की बात कहते हैं
उनके सज़दे भी अनसुने
उनकी दुआएं भी बेअसर
उनकी पूजा भी अधूरी
उनके दीपक भी चमक भर
किसी की दुनिया जलाकर ख़ुदा का कहर वो सहते
जो बीच राह छोड़ते हैं वो भी खुश नहीं रहते

वो ज़माने से लड़ जाने की कसम खाकर
प्यार के झूठ का रंग चढ़ाकर
ले जाते है हर रंग ज़िन्दगी से खींचकर
बेरंग कर गए जो सब्ज़बाग दिखाकर
वो रंगमहल में भी चले जाएं तो जाए
दुनिया की हर शय अपने कदमों में बिछाए
ख्वाबों का कारोबार करें ख्वाब सजा ले
अंधेरों की दुनिया का बद्दुआ का असर है
ख्वाब की दुनिया मे भी बेधड़क नहीं रहते
जो बीच राह छोड़ते हैं वो भी खुश नहीं रहते।